केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद ने लंबे इंतजार के बाद, आखिरकार 10वीं और 12वीं बोर्ड के नतीजे घोषित कर दिए।

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजुकेशन (सीबीएसई) ने, जैसे ही नतीजे घोषित करने का ऐलान किया, लाखों छात्रों के चेहरे खिल उठे, क्योंकि वो और उनके पेरेंट्स काफी दिनो से रिजल्ट जारी होने की उम्मीद लगाए बैठे थे। सीबीएसई ने 10वीं बोर्ड के नतीजे 22 जुलाई की सुबह में, जबकि 12वीं के नतीजे उसी दिन दोपहर 2बजे जारी किए थे, जिसमें करीब 92.7 प्रतिशत बच्चे पास हुए हैं।

आपको बता दें कि, इस बार सीबीएसई ने बोर्ड एग्जाम को कोरोना की वजह से दो टर्म में कराने का फैसला किया था, पहला टर्म पिछले साल आयोजित किया गया था, जबकि दूसरा टर्म इसी साल के अप्रैल-मई के महीने में कराया गया था। सीबीएसई बोर्ड द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, टर्म 2 के नतीजे टर्म 1 के नतीजों से काफी कम आए हैं, बोर्ड ने बताया की पहले टर्म की परीक्षा में 97.7 प्रतिशत बच्चे सफल हुए थे, जबकि इस बार सिर्फ 92.3 प्रतिशत बच्चे ही पास हो पाए हैं।

ये भी पढ़ें: Pitbull dog attack news: भारतीय महिला पर अमेरिकी कुत्ते ने किया हमला !

इस बार सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा में 1 लाख से ज्यादा छात्र फेल भी हुए हैं। जिनके लिए अगस्त माह में कंपार्टमेंट परीक्षा होगी, ताकि जो भी छात्र फेल हुए हैं, उन्हे पास होने के लिए एक और मौका मिल सके। सूत्रों के अनुसार अगले साल यदि हालत सामान्य रहें तो, बोर्ड परीक्षा अपने समय यानी फरवरी में होगी और अप्रैल के अंत तक परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। साथ ही बोर्ड एग्जाम को दो टर्म में न कराकर, एक बार में ही संपन्न कराया जाएगा।

कोरोना कहर के बीच बोर्ड परीक्षा का सफल आयोजन और बेहद ही कम समय में नतीजे घोषित करने के लिए, सीबीएसई बोर्ड के सभी सदस्य बधाई के पात्र हैं।