नई दिल्ली: Corona Update: देश भर में एक बार फिर से कोरोना और उसके नए वेरिएंट ओमिक्रोन का संकट मंडराने लग गया है। इसके चलते कई लोगों ने अपनी जानें गवा दी हैं। खबर आ रही है की पिछले कुछ घंटों में देश की राजधानी में कोरोना वायरस के 24,383 नए मामले सामने आए हैं इसके साथ 34 संक्रमित मरीज़ों की मौत हो गई है, संक्रमण का दर 30.64 फीसदी बढ़ गया है।

सरकार ने संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू लगाने का आदेश दे दिया है। यह कर्फ्यू शुक्रवार की रात 10 बजे से शुरू होगा और सोमवार की सुबह 5 बजे तक रहेगा। इसके साथ ही सभी गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है। हालांकि कोई ज़रूरी काम जैसे की दवाइयां खरीदने के लिए घर से निकलने पर कोई पाबंदी नहीं है। इस से पहले भी सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों को मद्देनजर रखते हुए नाइट कर्फ्यू की घोषणा की थी जो हर रात 11 बजे से अगले दिन की सुबह 6 बजे तक ज़ारी रहता है।

ये भी पढे: Lock Upp: कंगना रनौत के शो में हुई सिद्धार्थ निगम की एंट्री

सरकार ने कहा ये Corona

सरकार का कहना है कि इस वीकेंड कर्फ्यू के दौरान दिल्ली मेट्रो और बाकी सार्वजनिक साधन अपनी पूरी क्षमता के साथ चलेंगी जिस से जनता को कोई परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। हालांकि मेट्रो और बाकी सार्वजनिक साधनों में खड़े हो कर सफर करने पर सरकार ने पाबंदी लगाई है। इसके साथ ही हर व्यक्ति को मास्क और सेनिटाइजर का पूर्णतः उपयोग करना अनिवार्य है।

कोरोना वायरस का संक्रमण देश में तेज़ी से बढ़ा जा रहा है। इस से अंदाजा लगाया जा सकता है की यह कितना घातक हो सकता है देश के लिए। देश में पिछले वर्ष ही कोरोना के संक्रमण के दब दबे में आकर बहुत से लोगों ने अपनी जान गवाई है, बहुत से लोगों ने अपने परिवार के सदस्यों को खोया है, बहुत से बच्चे अनाथ भी हुए।

इन सभी चीज़ों के दौरान सरकार की लापरवाही भी पिछले साल देखने को मिली थी जब अस्पतालों में बिस्तरों की कमी पड़ गयी थी और लोग ऑक्सीजन के बिना अपनी जान गवा रहे थे। कई लाशें नदियों के किनारे पर बहती हुई मिली थी, कई लोगो को अपने प्रियजनों की लाशें भी नहीं मिली की वह उनका अंतिम संस्कार कर सकें।

ये भी पढे: Delhi: 87 वर्षीय महिला के साथ सफाईकर्मी ने किया बलात्कार…

आलम यह भी था की शमशान घाटों पर लाशों का ढेर लगा हुआ था और लाशें एक के बाद एक जाली जा रही थीं। इन सारी चीज़ों को पिछले साल देखने के बाद भी लोग आज इतनी लापरवाही बरत रहे हैं। लोग अब भी घरों से बहार बिना मास्क के निकल जाते हैं यह सोच कर की कोरोना जैसी चीज़ अब देश में तो क्या दुनिया में ही कही नहीं बसती है।

लोगों को यह समझ नहीं आ रहा है की यह बीमारी इतनी आसानी से नहीं जाएगी, इसके लिए लोगों को जागरूक होना पडेगा और सावधानी बरतनी होगी। जब तक लोग कोरोना वायरस से संबंधित सावधानियां नहीं बरतेंगे तब तक इस बीमारी से पीछा छुड़ाना मुश्किल हो जायेगा। लोगों को इस बीमारी के प्रति जागरूक होना पड़ेगा और यह जागरूकता तब आएगी जब लोग समय पर अपना टीका करण कराएँगे और मास्क का नियम से उपयोग करेंगे।

ये भी पढे: Kyunki Saas Bhi Kabhi Bahu Thi: फिर से दिलों पे राज़ करने आएगी तुलसी

कोरोना वायरस से बचने के लिए सरकार ने बहुत से नियम कानून लागू किये थे इन नियमों में नाईट कर्फ्यू और ऑड इवन संख्या के हिसाब से दुकानें खोलने की भी बातें लागू हुई थी। लेकिन सवाल एक बार फिर से वही पर जा कर उठता है की कितने लोग इन नियमों का सही रूप में पालन कर रहे हैं। जब तक लोग इन नियमों का पालन नहीं करते तब तक इन नियमों को लागू करने का कोई भी मतलब नहीं बनता ।