Career In Space Science: अंतरिक्ष विज्ञान युवाओं के लिए एक बेहतरीन करियर विकल्प बनता जा रहा है

Date:

Share post:

Career In Space Science: उन्नत तकनीक ने आज जमीन से आसमान तक पहुंचना आसान कर दिया है. इसलिए यहां के युवाओं के लिए करियर के नए विकल्प (Career In Space Science) खुल रहे हैं। अगर आप भी अंतरिक्ष के रहस्यों में रुचि रखते हैं तो आप अंतरिक्ष विज्ञान में अपना करियर बना सकते हैं। भारत का अंतरिक्ष विज्ञान कार्यक्रम अब बहुत विकसित हो चुका है इसीलिए देश के युवा वैज्ञानिकों के लिए देश-विदेश में अंतरिक्ष विज्ञान के द्वार खुल गए हैं। आज इस क्षेत्र में नौकरियों की कमी नहीं है, केवल ज्ञान की जरूरत है

Space Science: करियर विकल्प
अब अंतरिक्ष विज्ञान का बहुत विस्तार हो गया है। इस क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए खगोल विज्ञान और खगोल भौतिकी, पृथ्वी विज्ञान, प्राइमेट वायुमंडल और वायु विज्ञान और सौर प्रणाली के पाठ्यक्रमों का अनुसरण किया जा सकता है। अंतरिक्ष विज्ञान को कई उप-विषयों में विभाजित किया गया है। इसमें मुख्य रूप से कॉस्मोलॉजी (Cosmology), प्लैनेटरी साइंस (Planetary Science), एस्ट्रोनॉमी (Astronomy), स्टेलर साइंस (Stellar Science) शामिल हैं। ये सभी विज्ञान और इंजीनियरिंग की शाखाएँ हैं, जो अंतरिक्ष विज्ञान के लिए उपयोगी हैं। छात्र इनमें से किसी भी ब्रांच को चुनकर अपना करियर बना सकते हैं। आइए अंतरिक्ष विज्ञान में मौजूद विभिन्न करियर पर एक नज़र डालें।

1) ज्योतिष (Astrology)
बाह्य अंतरिक्ष अनुसंधान अंतरिक्ष विज्ञान में खगोल विज्ञान का कार्य है। इनमें सौरमंडल, तारे, आकाशगंगा, ग्रह आदि शामिल हैं। जिस पर वे जमीनी स्तर से शोध कर यहां होने वाली विभिन्न घटनाओं के बारे में सीखते हैं।

2) अंतरिक्ष यात्री (Astronaut)
अंतरिक्ष यात्रियों के बारे में लगभग सभी लोग जानते हैं, ये वो लोग होते हैं जो अंतरिक्ष में सफर करते हैं और अपने सपनों को पूरा करते हैं। इनका काम स्पेस स्टेशन पर रहना और रिसर्च करना है। उन्हें कई महीनों तक स्पेस स्टेशन में रहना होता है।

3) अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी (space technology)
इस क्षेत्र में स्पेस टेक्नोलॉजी का करियर भी काफी अच्छा माना जाता है। इसमें सैटेलाइट, स्पेस स्टेशन, स्पेसक्राफ्ट, स्पोर्ट्स इंफ्रास्ट्रक्चर इक्विपमेंट डिजाइन करना शामिल है।

4) अंतरिक्ष इंजीनियरिंग (space engineering)
स्पेस इंजीनियर का मुख्य काम किसी भी स्पेस मिशन से जुड़े सभी उपकरणों को डिजाइन करना होता है। वह इंजीनियरिंग के विभिन्न क्षेत्रों जैसे एयरोस्पेस, रोबोटिक्स, मैटेरियल साइंस, कंप्यूटर इंजीनियरिंग के साथ-साथ मैकेनिकल और टेलीकॉम इंजीनियरिंग में काम करता है।

5) अंतरिक्ष अनुसंधान (space research)
यह बहुत व्यापक क्षेत्र माना जाता है। अंतरिक्ष अनुसंधान में विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ शामिल हैं। जैसे- एस्ट्रोफिजिसिस्ट, बायोलॉजिस्ट, बायोकेमिस्ट और बायोफिजिसिस्ट, जियोलॉजिस्ट और एस्ट्रोबायोलॉजिस्ट। ये सभी अपनी-अपनी विशेषता के अनुसार काम करते हैं।

6 स्पेस लॉ (Space Law)
अंतर्गत क्षेत्राशी संबंधित गतिविधी नियंत्रित करणारा कायदा आहे. यामध्ये देश आणि कंपन्यांमधील करार, संधी, अधिवेशने आणि संघटना यांच्या नियमांची माहिती मिळते. आजच्या काळात अवकाशात ज्याप्रकारे गर्दी वाढत आहे. हे पाहता स्पेस लॉ करिअरचा चांगला पर्याय निर्माण होऊ शकतो.

7) अंतरिक्ष पर्यटन (Space Tourism)
यह अंतरिक्ष उद्योग में सबसे तेजी से बढ़ने वाला क्षेत्र है। अब इसमें कई नई निजी कंपनियां आ रही हैं। यहां युवाओं के लिए करियर का बेहतरीन मौका है। आज टूरिज्म सेक्टर में वर्जिन गैलेक्टिक, ब्लू ओरिजिन, ओरियन, स्पेसएक्स, ओरियन स्पैन और बोइंग जैसी कंपनियां काम कर रही हैं।

Latest Post

spot_img

Related articles

इस क्रीमी पालक सूप को पोपी द सेलर मैन जितना स्ट्रांग बनाने की कोशिश करें

1990 की एनिमेटेड सीरीज़ Popeye the Cellar Man बचपन में हम में से कई लोगों का पसंदीदा शो...

PCOS: क्या आप पीसीओएस से पीड़ित हैं? ऐसे में कुछ बीज आपकी मदद कर सकते हैं

पीसीओएस को पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के रूप में भी जाना जाता है, यह मासिक धर्म वाली महिलाओं में...

मात्र 50 पैसे में 1 किलोमीटर जाएगी ये ई-रिक्शा, कीमत जान हैरान हो जाएगे आप

नई दिल्ली। इस साल ऑटो एक्सपो में इलेक्ट्रिक वाहनों का चलन है। इलेक्ट्रिक सेगमेंट निजी के साथ-साथ वाणिज्यिक...

iPhone में आया ये बड़ा अपडेट नहीं करने पर होगा बड़ा नुकसान, जल्दी देखें

Apple धीरे-धीरे iPhone 15 सीरीज की ओर बढ़ा। उनकी लोकप्रियता धीरे-धीरे बढ़ रही है। जहां पहले भारी जेब...