Lata Mangeshkar: बीते कुछ दिनों में मशहूर गायिका और भारत की स्वर कोकिला यानी की लता मंगेशकर की तबियत में काफी हद तक सुधार आया था। जिसके चलते डॉक्टरों ने यह भी कह दिया था की वह लता को जल्द ही वेंटीलेटर (Ventilator) से हटा देंगे और कुछ दिनों बाद उन्हें डिस्चार्ज भी कर देंगे। लेकिन हाल ही में खबर आ रही है की लता दीदी की तबियत में सुधार की सारी निशानियां एक बार फिर से गायब हो गई हैं। बताया जा रहा है कि उनकी हालत एक बार फिर से बेहद गंभीर होती हुई नज़र आ रही है।

Breach Candy Hospital

आपको बता दें कि 8 जनवरी 2022 को लता मंगेशकर कोविड (Covid) पॉजिटिव पाई गई थी और इसके चलते उनकी तबियत काफ़ी खराब होने लगी थी। इसके बाद उन्हें जल्द ही मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल (Breach Candy Hospital) में भर्ती कराया गया। पिछले कुछ दिनों के सुधार के बाद लता दीदी का स्वास्थ्य फिर से खराब हो गया है। उन्हें अभी आईसीयू (ICU) में डॉक्टरों की निगरानी में ही रखा गया है और वह कुछ समय तक वहीं रहेंगी। वही पिछले 27 दिनों से अस्पताल में भर्ती हैं और इस बीच उनके स्वास्थ्य में कई उतार चढ़ाव देखने को मिल रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: Casting Couch: बॉलीवुड के यह सितारे हुए कास्टिंग काउच के शिकार, नाम देख होंगे हैरान

इन्हीं सभी बातों के दौरान बहुत से ऐसे लोग भी हैं जो लता के स्वास्थ्य से संबंधित बहुत सी अफ़वाएं उड़ा रहे हैं। बहुत से लोग यह बातें फैला रहे हैं कि लता मंगेशकर का निधन हो चुका है और यह बात सोशल मीडिया पर आग की तरह फेल रही है। इन्हीं सभी बातों को ध्यान में रखते हुए लता की टीम ने एक आधिकारिक बयान ज़ारी किया है, जिसमें उन्होंने जनता से अनुरोध किया है की लता से संबंधित कोई भी झूठी अफ़वा न फैलाएं।

लता की टीम ने अपने इस बयान में कहा है कि, “आप सब से गुजारिश है कि कृपया किसी भी झूठी खबर को हवा न दें। लता दीदी का इलाज आईसीयू में चल रहा है। उनका इलाज डॉ प्रतीत समदानी (Dr. Prateet Samdani) और उनकी डॉक्टरों की टीम कर रही है। परिवार वालों और डॉक्टरों को थोड़ी गोपनीयता चाहिए। आइए हम लता दीदी के शीघ्र स्वस्थ होने और घर लौटने की प्रार्थना करें।”

यह भी पढ़ें: Weird Websites: टाईमपास के लिए कुछ वेबसाइट जिनके नाम आपने कभी नहीं सुने होंगे

लता मंगेशकर का जीवन और सिंगिंग करियर की शुरुआत:

Lata Mangeshkar

लता मंगेशकर का जन्म 28 सितम्बर 1929 को हुआ था। इनके पिता का नाम दीनानाथ मगेशकर था। यह बात शायद काफी काम लोगों को पता होगी की लता, मंगेशकर का जन्म के समय नाम हेमा मंगेशकर था लेकिन इसके बाद उनके पिता ने उनका नाम बदल कर अपने ही लिखे हुए नाटक के एक पात्र लतिका से प्रेरित हो कर लता रख दिया। लता के पिता ने उनके जीवन में पिता के साथ साथ ही गुरु की भी भूमिका निभाई थी।

लता के पिता ने ही उन्हें सबसे पहले संगीत की शिक्षा देनी शुरू की थी थी जिसके बाद उनकी संगीत में रूचि बढ़ती गयी। इसके बाद लता ने कई अन्य गुरुओं जैसे की उस्ताद अमानत अली खान, अमानत अली देवसवाले, गुलाम हैदर, पंडित तुलसीदास शर्मा और अनिल बिस्वास से भी संगीत की शिक्षा ली थी। लता ने अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत मराठी फिल्म गजाभाऊ में “माता एक सपूत की दुनिया बदल दे तू” गाने को गा कर की थी।