तनाव, तन और मन में जरबेरा? स्वस्थ रहने के लिए इस विशेषज्ञ सलाह का पालन करें

Date:

Share post:

आप बहुत ढूंढ़ने पर भी आपको एक भी ऐसा व्यक्ति नहीं मिलेगा जिसके जीवन में कोई तनाव न हो। यहां तक ​​कि बच्चे भी इस सूची से बाहर नहीं हैं। इतने दबाव का क्या? अवसाद के साथ, शरीर के कई कार्यों में उतार-चढ़ाव होता है। जिसके फलस्वरूप तरह-तरह के रोग उत्पन्न होते हैं। तनाव आज ज्यादातर बीमारियों की जड़ है। पश्चिम के अलावा, पिछले कुछ वर्षों में इस देश और क्षेत्र के लोगों में तनाव या चिंता गंभीर दर से बढ़ी है साल में 10-15 प्रतिशत वयस्क तनाव से ग्रस्त हैं। ‘भारत के राज्य भर में मानसिक विकारों का बोझ’ – अध्ययन लांसेट मनोचिकित्सा पत्रिका में प्रकाशित हुआ था। कहा जाता है कि इस देश में सात में से एक व्यक्ति मानसिक विकार का शिकार है।हाल ही में, यह दर लगभग दोगुनी हो गई है। इसे मरीजों की शारीरिक और मानसिक स्थिति को नियमित रूप से देखकर ही स्पष्ट रूप से महसूस किया जा सकता है। स्थिति और बिगड़ेगी। लेकिन इसके लिए काफी हद तक हम खुद ही जिम्मेदार हैं। इसलिए नए साल की शुरुआत में तनाव को दूर करें। तब ठीक रहने की समय अवधि लंबी होगी।

तनाव में जरबेरा, तन-मन शरखारे:
प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन में कभी न कभी तनाव और चिंता का अनुभव करेगा। जैसे इसके बिना आगे बढ़ना संभव नहीं है, वैसे ही तनाव होने पर स्वस्थ रहना भी मुश्किल है। पुरानी चिंता अधिक गंभीर है। मन के साथ अर्थात् चारित्रिक परिवर्तनों के साथ-साथ यह शरीर को भी प्रभावित करता है। जो तंत्रिका तंत्र, हृदय प्रणाली, प्रतिरक्षा प्रणाली, श्वसन प्रणाली, पाचन तंत्र आदि हैं।कर्म बुराई की ओर ले जाते हैं। थकान या क्रोनिक थकान सिंड्रोम। पेट में अल्सर, गैस की समस्या बढ़ जाती है, मिचली आने लगती है, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम हो जाता है। युवाओं में तनाव के कारण कामेच्छा खो जाती है, यौन इच्छा कम हो जाती है।

मन ठीक नहीं रहता, अवसाद फैलता है, लोग चिड़चिड़े हो जाते हैं, एकाग्रता में कठिनाई होती है, भूलने की बीमारी, स्कूल-ऑफिस में मन से काम नहीं कर पाना, हर समय मिजाज रहना आदि। कई उससे घबराते हैं अटैक आता है, हर समय हीनता, सुस्ती काम करती है। घबराहट के कारण एकाग्रता में कमी, सीने में दर्द, धड़कन, सांस की तकलीफ, अचानक झटका, पसीना, सिरदर्द होता है। इसके अलावा, कई लोग इस कारण से असामाजिक हो जाते हैं। किसी से घुल-मिल नहीं सकते, किसी परिस्थिति में नहीं ढल सकते। बहुत से लोग फिर से आसक्त हो जाते हैं।

हार्मोनल परिवर्तन:
यदि आप निरंतर या दीर्घकालिक चिंता या तनाव में हैं, तो विभिन्न हार्मोनल विविधताएँ हैं। शरीर में स्ट्रेस हार्मोन्स बढ़ जाते हैं। लगातार तनाव के कारण शरीर में कोर्टिसोल, एड्रेनालाईन हार्मोन बढ़ जाते हैं। जिससे वजन बढ़ना, शुगर, ब्लड प्रेशर भी बढ़ जाता है। इससे लगातार पेट की समस्या भी होती है। पुराने तनाव का प्रतिरक्षा प्रणाली पर प्रभाव पड़ता है और इसलिए संक्रमण के प्रति संवेदनशीलता बढ़ जाती है।

आप बदलोगे तो जिंदगी भी बदलेगी :

  • आज हमें बहुत प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। जो हर समय हमारे दिमाग में दबाव का संचार करता है। इसलिए समूहों में काम करना हमेशा आवश्यक होता है। अकेले काम करने से तनाव बढ़ता है। इसलिए आपको स्कूल, ऑफिस में हमेशा सबके साथ तालमेल बिठाकर काम करना चाहिए।
  • किसी चीज से बहुत ज्यादा उम्मीद न करें। व्यक्ति को केवल अपने काम पर ध्यान देना चाहिए। दूसरों के बारे में बहुत अधिक बातें करना, सुनना मानसिक रूप से बहुत परेशान करने वाला होता है।
  • नियमित ध्यान बहुत जरूरी है।
  • सीमित जरूरतें, सीमित खान-पान मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के लिए बहुत जरूरी है।
  • नियमित व्यायाम बहुत जरूरी है। शराब, सिगरेट या अन्य व्यसनों से दूर रहें।

Latest Post

spot_img

Related articles

इस क्रीमी पालक सूप को पोपी द सेलर मैन जितना स्ट्रांग बनाने की कोशिश करें

1990 की एनिमेटेड सीरीज़ Popeye the Cellar Man बचपन में हम में से कई लोगों का पसंदीदा शो...

PCOS: क्या आप पीसीओएस से पीड़ित हैं? ऐसे में कुछ बीज आपकी मदद कर सकते हैं

पीसीओएस को पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के रूप में भी जाना जाता है, यह मासिक धर्म वाली महिलाओं में...

मात्र 50 पैसे में 1 किलोमीटर जाएगी ये ई-रिक्शा, कीमत जान हैरान हो जाएगे आप

नई दिल्ली। इस साल ऑटो एक्सपो में इलेक्ट्रिक वाहनों का चलन है। इलेक्ट्रिक सेगमेंट निजी के साथ-साथ वाणिज्यिक...

iPhone में आया ये बड़ा अपडेट नहीं करने पर होगा बड़ा नुकसान, जल्दी देखें

Apple धीरे-धीरे iPhone 15 सीरीज की ओर बढ़ा। उनकी लोकप्रियता धीरे-धीरे बढ़ रही है। जहां पहले भारी जेब...