हमारी भारतीय संस्कृति ने हमेशा हमें बाजार के स्नैक्स के बजाय घर का बना खाना खाने के लिए प्रोत्साहित किया है। हम यह सुनकर बड़े हुए हैं कि लंबे और स्वस्थ जीवन का रहस्य आपकी रसोई में है, जो सामग्री आपकी रसोई में आसानी से उपलब्ध है, वह स्वस्थ जीवन की कुंजी है। जब आप खाना खा रहे हों तो आपका पूरा ध्यान सिर्फ खाने पर होना चाहिए। भोजन करने का आदर्श तरीका यह है कि फर्श पर पैरों को मोड़कर बैठें और भोजन का आनंद लें।

हमारे पारंपरिक भारतीय भोजन को इस तरह से डिजाइन किया गया है जो हमारी आंत को सुनता है। पारंपरिक भारतीय भोजन न केवल स्वस्थ है, बल्कि बहुत सारे स्वास्थ्य लाभों के साथ अविश्वसनीय रूप से स्वादिष्ट भी है। भारतीय भोजन मानव शरीर में प्रतिरक्षा, सूजन, मस्तिष्क समारोह और कई अन्य कार्यों का समर्थन करता है। कुछ क्रैश डाइट लेने के बजाय, अगर हम सिर्फ अपनी संस्कृति, अपने भारतीय भोजन पर टिके रहें और कुछ नियमित व्यायाम करें, तो हमारा शरीर और मन स्वस्थ रह सकता है।

नाश्ता

अपने दिन की शुरुआत चाय/कॉफी से करने के बजाय केले या किसी अन्य ताजे फल से शुरू करें। आप भीगे हुए बादाम या भीगे हुए किशमिश भी खा सकते हैं। नाश्ते के लिए, आप घर का बना नाश्ता, जैसे इडली, डोसा या पोहा ले सकते हैं।

सुबह के दौरान

आप ताजे फल या घर का बना लड्डू या बर्फी ले सकते हैं। आप घर पर बनी ड्रिंक भी चुन सकते हैं, जैसे नारियल पानी, छाछ, नन्नारी या निम्बू शर्बत। दिन में इन ड्रिंक्स को शामिल करने के पीछे भूख बढ़ाना, पाचन को आसान बनाना और इम्यूनिटी को बढ़ावा देना है।

दिन का खाना

घर का बना खाना जैसे चावल, रोटी और नियमित सब्जी का सेवन करें। आप चाहें तो इसमें चिकन या अंडे भी डाल सकते हैं। अंत में, अपने भोजन में पापड़ और आचार को शामिल करें। घर का बना अचार एंटीऑक्सिडेंट का एक अच्छा स्रोत है जो इम्यूनिटी में भी सुधार करता है और आपके शरीर में पाचन की प्रक्रिया में सुधार करता है।

शाम का नाश्ता

वजन कम करने की कुंजी यह है कि आप शाम 4 बजे से शाम 6 बजे के बीच क्या खाते हैं। यह एक ऐसा समय होता है जब हममें से ज्यादातर लोग भूखे होते हैं और खाने में भी सबसे ज्यादा लापरवाह होते हैं। चपाती को आप घी और गुड़ के साथ खा सकते हैं। आप पोहा, अंडे का टोस्ट, मुरुक्कू या घर का बना नारियल या गोंद के लड्डू भी खा सकते हैं।

रात का खाना

रात को खाना 8 से पहले कर लेना चाहिए और अपने भोजन और सोने के समय के बीच कम से कम 3 घंटे का अंतर रखना चाहिए। रात के खाने में चावल को सांबर, रसम या दाल और किसी भी हरी सब्जी के साथ खाएं। मांसाहारी लोग चिकन भी डाल सकते हैं। अपने रोजमर्रा के उपयोग के लिए ब्राउन राइस के बजाय हाथ से पिसे या सिंगल पॉलिश्ड चावल चुनें। यह पचने में आसान है और नींद में सुधार करता है। रात में अगर आपको फिर भी भूख लगती है तो एक गिलास दूध पीएं।

ये भी पढ़ें: iphone 14: अगले महीने आ रहा है दुनिया का सबसे शानदार स्मार्टफोन ! कीमत होगी सबसे कम ?

एक स्वस्थ प्लेट कैसी दिखनी चाहिए?

आप प्लेट विधि का पालन कर सकते हैं। यह स्वस्थ भोजन योजना मधुमेह वाले लोगों सहित सभी के लिए काम करती है। दरअसल, पौष्टिक स्वस्थ भोजन बनाना एक झटपट बन जाएगा।

बच्चों के लिए 7 इंच की प्लेट और अडल्ट के लिए 9 इंच की प्लेट का इस्तेमाल करें। सबसे पहले, प्लेट को आधे में विभाजित करें और उनमें से एक को सब्जियों से भरें। सब्जियां दो प्रकार की होती हैं, स्टार्चयुक्त आलू, मक्का, मटर या केला और गैर-स्टार्ची जैसे तोरी, जीका, खीरा, गाजर, या सलाद। यदि आपको मधुमेह है, तो अपनी आधी प्लेट को बिना स्टार्च वाली सब्जियों से भरें, फिर साबुत अनाज या स्टार्च जैसे ब्राउन राइस, मकई और बीन्स से भरें। दूसरे में, टोफू, ग्रिल्ड फिश या चिकन जैसे कुछ लीन प्रोटीन मिलाएं। अंत में एक कटोरी चावल या ब्रेड डालें।