नई दिल्ली: Delhi University: कोरोना वायरस (Corona Virus) के बढ़ते संक्रमण ने देश की अर्थव्यवस्था को तो हिला कर रख ही दिया था लेकिन उसके साथ साथ ही देश की शिक्षा प्रणाली पर भी बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ा है। कोरोना वायरस के चलते भारत में 1 वर्ष  से अधिक समय के लिए लॉकडाउन लगा ही रहा है। इस दौरान बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन माध्यम से शुरू हो गई जहां बच्चे ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाई कर रहे थे। वही एक के बाद एक उनकी परीक्षाएँ स्थगित हो गई और कुछ परीक्षाएँ तो पूरी ही तरीके से रद्द कर दी गई। 

अब जैसे जैसे हालत सुधरे हैं, भारत के अधिकतम स्कूल और कॉलेज खुल चुके हैं। वही बहुत से ऐसे भी कॉलेज हैं जिनके खुलने का कोई नामों निशान तक नहीं दिख रहा था। इनमें दिल्ली विश्वविद्यालय (Delhi University) का भी नाम शामिल है। 9 फरवरी बुधवार को यह ख़बर आयी है कि दिल्ली विश्वविद्यालय के अंदर जितने भी कॉलेज हैं वह सभी 17 फरवरी से खोल दिए जाएंगे। विश्वविद्यालय प्रशासन ने यह फ़ैसला छात्रों के लगातार प्रदर्शन और देश की राजधानी में कोरोना वायरस के घटते हुए मामलों को ध्यान में रखते लिया है।

यह भी पढ़ें: Kanpur: 10 साल के बच्चे की कील से निकाली आंखें, सिगरेट से जलाया चेहरा

क्या था पूरा मामला: (Delhi University)

दरअसल पिछले कुछ दिनों से ABVP के 9 सदस्य दिल्ली विश्वविद्यालय के उत्तरी कैम्पस में कॉलेज खोलने की मांग करते हुए भूख हड़ताल पर बैठ गए थे। इन सभी हड़तालों और प्रदर्शनों को ध्यान में रखते हुए दिल्ली विश्वविद्यालय के कलानुशासक रजनी अब्बी ने बुधवार को एक घोषणा की जिसमें उन्होंने बताया कि दिल्ली विश्वविद्यालय के सभी कॉलेज 17 फरवरी से खोल दिए जाएंगे।

कोरोना वायरस के कारण देश की आर्थिक स्थिति तो संकट में थी ही लेकिन इसके साथ साथ ही देश में शिक्षा का भी हाल बेहाल हो गया था। बच्चों की ऑनलाइन क्लासेज और ऑनलाइन परीक्षाएं तो चल रही थीं लेकिन इस पढाई से बच्चों को कोई लाभ नहीं मिल रहा था। बीते दो सालों में भारत की शिक्षा प्रणाली पर काफी ज़्यादा प्रभाव पड़ा है। निरंतर ऑनलाइन क्लासेज के बावजूद भी बच्चों का यही कहना था की इस से कोई भी लाभ हासिल नहीं हो रहा है।

हालांकि उनके पास इसके अलावा और कोई चारा भी नहीं था। कोरोना वायरस के चलते बहुत से महत्वपूर्ण परिखाओं को भी स्थगित करना पद गया था और इसका अंजाम यही रहेगा की भविष्य में बच्चों को ही दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।

दिल्ली सरकार का फैसला: (Delhi university)

हालांकि अब दिल्ली सरकार ने यह फैसला ले ही लिया है की दिल्ली में सभी स्कूल और कॉलेज खुलेंगे तो अब शायद शिक्षा के मामले में सुधार की उम्मीद की जा सकती है। दिल्ली में सभी स्कूल और कॉलेज तो खुल गए थे लेकिन लोगों को बस इसी बात का इंतज़ार था की दिल्ली विश्वविद्यालय कब खुलेगा और अब इसकी भी तारिख सामने आ चुकी है और दिल्ली विश्वविद्यालय के विद्यार्थी इस बात से काफी खुश नज़र आ रहे हैं की आखिर कार इतनी म्हणत मुशक्कतों के धरना प्रदर्शन के बाद अब उनके कॉलेज खोले जा रहे हैं। आपको बता दें की दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र पूरे दो वर्षॉं के बाद कॉलेज के कैंपस में कदम रखेंगे।

दिल्ली सरकार ने कॉलेज खुलने के ऐलान के साथ साथ ही कॉलेज में बच्चों के प्रवेश की पूरी तैयार भी बाँध ली है। सरकार ने कोरोना वायरस के सभी नियमों का पालन करने का ऐलान किया है इसके साथ ही छात्रों और अध्यापकों को भी यह निर्देश दिया गया है की वह कॉलेज में प्रवेश के दौरान कोविड के इन सभी नियमों का पूरी गंभीरता से पालन करें। बच्चे जल्द ही अब कॉलेज में प्रवेश करेंगे और पिछले कुछ सालों में उनकी शिक्षा को जो भी हानि पहुंची है उसकी भरपाई की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी।