शामभवी शाही, नई दिल्ली: Gorakhpur: अपने देश में अंधविश्वास की जड़ें काफी गहरी हैं। इस अंधविश्वास को लोग अकसर धार्मिकता समझने की भूल कर देते हैं और इसके जाल में फंसते चले जाते हैं। यह अंधविश्वास ऐसा है की कोई भी इंसान इसके चपेटे में आ सकता है और कुछ भी कर गुजरने को तैयार हो जाता है। ऐसा ही एक चौका देने वाला अंधविश्वास का मामला उत्तर प्रदेश के गोरखपुर ज़िले में सामने आया है।

खबरों के मुताबिक, गोरखपुर ज़िले के सिकरीगंज इलाके के गांव में एक परिवार की महिला को मां बनने में परेशानी आ रही थी। महिला काफी समय से बांझ थी और अपनी इस परेशानी का हल निकालने के लिए महिला और उसके पति ने किसी तांत्रिक से संपर्क करने का सोचा। महिला और उसके पति ने संत कबीर नगर के एक तांत्रिक से संपर्क किया और उसे अपने घर पूजा पाठ की विधि करने के लिए बुला लिया। तांत्रिक मंगलवार को दंपत्ति के घर पहुंचा।

यह भी पढ़ें: Gadgets: 28 घंटे तक चलने वाले इस इयरबुड के फीचर्स और कम कीमत जानकर रह जायेंगे दंग

घर पहुंचने पर उस तांत्रिक ने महिला के पति को घर से बाहर कुछ पूजा पाठ का सामान ले आने के लिए भेज दिया। उसके बाद तांत्रिक ने घर में महिला को अकेला पा कर उसके साथ दुष्कर्म किया। महिला ने तुरंत ही शोर मचाया जिस से की आस पास के मोहल्ले के सभी लोग इकट्ठे हो गए। लोगों ने तांत्रिक को बहुत पीटा जिसके बाद दंपत्ति ने उस तांत्रिक के खिलाफ केस दर्ज करवा दिया। पुलिस ने तांत्रिक को गिरफ्तार कर लिया है और वह इस वक्त हिरासत में है।

यह घटना उन सब लोगों के लिए एक सीख है जो विश्वास और अंधविश्वास के बीच में भेद नहीं कर पाते। इंसान को अंधविश्वास कभी कभी ऐसी जगह पर ले आकर खड़ा कर देता है की इंसान के पास कोई सोचने समझने की क्षमता नहीं बचती है। भारत में विश्वास करने वालों से ज़्यादा अंधविश्वास करने वाले लोगों की संख्या है। लोग भगवान् को तो मानते हैं लेकिन इस श्रद्धा के अलावा वह जादू टोन में भी भरोसा रखने लग जाते हैं।

ऐसे बहुत से मामले हमें अक्सर देखने को मिल जाते हैं जहाँ पर लोग जादू टोने और तांत्रिकों द्वारा करवाए गए पूजा पाठ से बहुत सी ऐसी चीज़ों को हासिल करने के लिए जो उनके या किसी भी तांत्रिक के इख्तियार में नहीं होते, अपने ही परिवार की बलि दे देते हैं। लोगों के इस हवस और लालच का शिकार अक्सर उनके करीबी ही बन जाते हैं और उन्हें इस बात की खबर भी नहीं होती।

ईश्वर में आस्था और भरपूर श्रद्धा रखना विश्वास है। लेकिन ईश्वर के साथ साथ ही साधारण मनुष्यों को पूजना और उनके बहकावे में आकर कुछ ऐसा कर जाना जिस से भविष्य में जा कर आपको या आपके किसी करीबी को ही हानि पहुंचे यह पूर्ण अन्धविश्वास है। इंसान को कोई भी चीज़ अपने बुद्धि और विवेक से सोचना चाहिए। हर चीज़ जो हमारे लिए बानी है वह हम तक आने के लिए कोई न कोई मार्ग अवश्य धुंध लेगी और हर वो चीज़ जो हमारे लिए नहीं बानी है उसे हम तक कोई भी पहुंचा नहीं सकता है।

हम किसी भी तांत्रिक, पुजारी या किसी भी प्रकार के जादू टोने का उपयोग कर लें या सहायता ले लें, वह चीज़ जो हमारे लिए नहीं बनी है वह हम तक आ भी नहीं सकती है।इंसान को यह बात समझना बहुत ही आवश्यक है की कोई भी बात जो तथ्यों, तर्कों और अनुभवों को भी हानि पहुँचाने लगे और उनके खिलाफ पूर्ण दृढ़ता से कड़ी होने लग जाए तो यह अंधविश्वास होता है।