नई दिल्ली: Hijab Controversy: कर्नाटक में मुस्लिम छात्रों द्वारा स्कूल में हिजाब न पहनने के नियम के खिलाफ प्रदर्शन लगातार ज़ारी है। इस प्रदर्शन को अब काफी दिन हो चुके हैं लेकिन बच्चोंके अंदर की यह क्रांति जाने का नाम नहीं ले रही है। जहां मुस्लिम छात्र यह प्रदर्शन करने में लगे हुए हैं वहीं यह मामला कर्नाटक के उच्च न्यायालय में भी आगे बढ़ा जा रहा है। 

कर्नाटक उच्च न्यायालय की तीन-न्यायाधीशों की पीठ ने कॉलेजों में छात्रों द्वारा “हिजाब” (Headscarf) पहनने पर प्रतिबंध लगाने वाली याचिकाओं पर सुनवाई शुरू कर दी है। उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश (Chief Justice of High Court) रितु राज अवस्थी (Ritu Raj Awasthi) ने मामले की सुनवाई की तात्कालिकता को देखते हुए खुद,

न्यायमूर्ति कृष्णा एस दीक्षित (Justice Krishna S. Dixit) और न्यायमूर्ति जयबुन्निसा एम खाजी (Justice Jaibunnisa M. Khazi) की एक पूर्ण पीठ का गठन किया है।  इस बीच, सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को उच्च न्यायालय से याचिकाओं को स्थानांतरित करने की मांग वाली एक याचिका को तत्काल सूचीबद्ध करने से इनकार कर दिया।

कर्नाटक में सभी स्कूलों एवं कॉलेजों को 3 दिन के लिए पूर्ण रूप से बंद कर दिया गया है। कर्नाटक में हिंदू एवं मुस्लिम छात्रों के बढ़ते हुए हिजाब से संबंधित दंगों को ध्यान में रखते हुए कर्नाटक सरकार ने यह फैसला लिया है। 8 फरवरी मंगलवार को कर्नाटक के हाई कोर्ट में हिजाब कॉन्ट्रोवर्सी से संबंधित सुनवाई थी। जिसके बाद कर्नाटक में 3 दिन के लिए सभी स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए थे।

ये भी पढ़े: Casting Couch: बॉलीवुड के यह सितारे हुए कास्टिंग काउच के शिकार, नाम देख होंगे हैरान

मुस्लिम धर्म में सिर ढकने के लिए अलग अलग कपड़ो का इस्तेमाल किया जाता है और यह दिखने में बेशक थोड़े बहुत एक सामान होते हैं लेकिन इनके नाम अलग अलग होते हैं। हालांकि यह ज़रूरी नहीं है की हर मुस्लिम महिला यह कपडे सिर ढकने के लिए इस्तेमाल करें लेकिन अगर आप इस्लामी मुल्कों में जाते हैं तो वह पर आपको 95 प्रतिशत महिलाएं इन कपड़ो का इस्तेमाल करते हुए दिख जाएँगी।

हिजाब जैसे सिर ढकने वाले कपडे मुस्लिम धर्म की औरतों के लिए काफी ज़रूरी आभूषणों में से एक माने जाते हैं और कहा जाता है की जो स्त्री सम्मानजनक होती है वह इसका उपयोग हमेशा करती है।

विभिन्न प्रकार के सिर ढकने के कपड़े: Hijab Controversy

1. हिजाब

हिजाब विभिन्न प्रकार के समान हेडस्कार्फ़ का एक नाम है। यह पश्चिम में पहना जाने वाला सबसे लोकप्रिय घूंघट है। इन घूंघट में एक या दो स्कार्फ होते हैं जो सिर और गर्दन को ढकते हैं। पश्चिम के बाहर, यह पारंपरिक घूंघट अरब दुनिया और उसके बाहर कई मुस्लिम महिलाओं द्वारा पहना जाता है।

2. चादर

चादर हाथ या पिन से गर्दन पर बंद पूरे शरीर की लंबाई वाली शॉल है। यह सिर और शरीर को ढकता है लेकिन चेहरा पूरी तरह से दिखाई देता है। चाडर्स अक्सर काले होते हैं और मध्य पूर्व में विशेष रूप से ईरान में सबसे आम हैं।

3. बुर्क़ा

बुर्का पूरे शरीर का पर्दा है। पहनने वाले का पूरा चेहरा और शरीर ढका होता है, और व्यक्ति आंखों पर जालीदार स्क्रीन के माध्यम से देखता है। यह आमतौर पर अफगानिस्तान और पाकिस्तान में पहना जाता है। अफगानिस्तान में तालिबान शासन (1996-2001) के तहत, इसका उपयोग कानून द्वारा अनिवार्य था।

4.नक़ाब

नकाब पूरे शरीर, सिर और चेहरे को ढकता है; हालांकि, आंखों के लिए एक उद्घाटन छोड़ दिया गया है। नकाब की दो मुख्य शैलियाँ हैं आधा नकाब जिसमें एक हेडस्कार्फ़ और चेहरे का घूंघट होता है जो आँखों और माथे के हिस्से को दिखाई देता है और पूर्ण, या खाड़ी, नकाब जो आँखों के लिए केवल एक संकीर्ण भट्ठा छोड़ता है। हालांकि ये पर्दे मुस्लिम दुनिया भर में लोकप्रिय हैं, लेकिन ये खाड़ी देशों में सबसे आम हैं। नकाब यूरोप के भीतर बहुत बहस पैदा करने के लिए जिम्मेदार है।