Kanpur: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में एक बार फिर से दरिंदगी की एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है जहां पर एक 10 साल के बच्चे केसर बेरहमी से जुर्म को अंजाम दिया गया है। कानपुर में एक 10 साल के बच्चे के साथ ऐसी दरिंदगी हुई है जिसके बारे में जान कर किसी का भी दिल दहल जायेगा और रूह कांप उठेगी। एक मासूम बच्चे के साथ इस दरिंदगी को इतनी हद तक किया गया है की सोच कर भी किसी इंसान के रोंगटे खड़े हो जाएंगे। 

क्या है पूरी कहानी: Kanpur

इस बच्चे की लाश मंगलवार 8 फरवरी को कानपुर आउटर (Kanpur Outer) से बरामद हुई थी। बच्चे की आंख फूटी हुई थी और उसके चेहरे पर जलने के निशान थे। आशंका है कि हत्यारे ने बच्चे की आंख को कील से निकाला और उसके चेहरे को सिगरेट से जलाया था। इसके साथ ही बच्चे की गर्दन पर जूते के निशान थे जिससे की पता चल रहा है कि हत्यारे ने बच्चे की गर्दन को काफी देर तक जूते के नीचे दबाया रखा था। बच्चे के शव के पास से 2 दारू की बोतलें और ग्लास बरामद हुई थी।

जिससे की अंदाज़ा लगाया जा रहा है कि हत्यारे दो रहे होंगे। इन सब के अलावा बच्चे की पीठ बहुत ज्यादा काली हो चुकी थी जिससे अनुमान लगाया जा रहा है कि हत्यारों ने बच्चे को ज़मीन पर बुरी तरह से घसीटा था।

यह भी पढ़ें: Karnataka Hijab Row: सभी स्कूल और कॉलेज हुए 3 दिन के लिए बंद

कानपुर आउटर के एसपी अजीत कुमार सिन्हा (SP Ajeet Kumar Sinha) ने बताया है की जिस हालत में बच्चे के शव को बरामद किया गया है उससे यह बात साफ ज़ाहिर होती है कि हत्यारों को बच्चे से खासा तौर पर नफ़रत थी। यह अंदाजा लगाया गया है कि इन हत्यारों की बच्चे या बच्चे के परिवार वालों से कोई पुरानी रंजिश रही होगी जिसके कारण उन्होंने इस खौफनाक जुर्म को अंजाम दिया होगा।

इसके अलावा पुलिसकर्मियों पर भी बच्चे के परिजनों ने आरोप लगाए हैं कि उन्होंने बच्चे की गुमशुदगी की रिपोर्ट सोमवार को ही लिखवाई थी लेकिन पुलिस ने इस मामले पर कोई भी कार्रवाई नहीं की थी।

जुर्म की कोई सीमा नहीं होती और जुर्म करने वाले भी किसी सीमा के तहत बाध्य नहीं होते। कोई भी इंसान बदले की आग में इतना ज़्यादा जल सकता है की वह एक बच्चे के साथ ऐसी दर्दनाक वारदात को अंजाम दे सकता है यह बात सच में काफी विचारणीय है और इस बात से यह भी मालुम पड़ता है की इंसान बदले की छह में इतना ज़्यादा अँधा हो सकता है की वह एक मासूम बच्चे के साथ ऐसा कुछ कर गुज़रेगा।

यह सच में बेहद हैरान कर देने वाली बात है की किस तरह कोई इंसान एक छोटे बच्चे के साथ ऐसी दर्दनाक वारदात को अंजाम दे सकता है। देखने और सुनने में यह कहानी किसी हैवानियत की दास्तान से कम नहीं लगती है।