एक मां अपने बच्चे के लिए क्या कर सकती है, इसकी एक झलक मध्यप्रदेश के उमरिया में देखने को मिली, जहां एक महिला ने बाघ के जबड़े से अपने डेढ़ साल के बच्चे को जिंदा बचा लिया।

कुछ समय पहले आई एक खबर ने सभी को हिला दिया, जिसने भी इसके बारे में सुना वो दंग रह गया। मध्यप्रदेश को उमरिया जिले से ये खबर आ रही है, जिसमें ये बताया जा रहा है की रोहनिया नामक गांव में एक महिला (अर्चना) अपने डेढ़ साल के बच्चे (राजवीर) के साथ खेत में कुछ काम कर रही थी, तभी पहले से झाड़ियों में छिपे बाघ ने अर्चना के बच्चे पर हमला बोल दिया और उसे दबोच लिया, जैसे ही महिला ने ये देखा वो बिना घबराए तुरंत बाघ से भिड़ गई और जोर-जोर से चिल्लाने लगी।

महिला की चीखें सुनकर गांव के लोग लाठी डंडे के साथ वहां पहुंचे जैसे ही बाघ ने ये सब देखा वो बच्चे को छोड़कर जंगल में वापस भाग गया। हालांकि, इस हमले में महिला और बच्चे दोनो को गंभीर चोटें आई हैं, जब दोनो को प्राथमिक उपचार के लिए उमरिया प्राथमिक स्वस्थ केंद्र ले जाया गया, तब वहां के डॉक्टर्स ने महिला को जबलपुर रेफर कर दिया और बताया की उनके गर्दन में फ्रेक्चर हुआ है।

ये भी पढ़ें: Maruti Suzuki का धंधा बंद करने के लिए Tata और Mahindra ने कसी अपनी-अपनी कमर! होगा सबसे बड़ा दंगल?

tiger attack

गांव वालों से मिली जानकारी के अनुसार महिला और बाघ के बीच करीब 25 मिनट तक जद्दोजहत हुई, जिसमें महिला की चीख ने बाघ को परेशान कर रखा था। महिला ने भी हिम्मत न हारते हुए अपने बच्चे को बचा लिया। आपको बता दें की जिस इलाके में ये घटना हुई है वो बांधवगढ़ राष्ट्रीय टाइगर रिजर्व का इलाका है, जहां से अक्सर ही जंगली जानवर गांव में घुस जाते हैं और मवेशियों पर हमला कर देते हैं। लोगों ने बताया कि टाइगर रिजर्व के चारो ओर कंटीले तारों से फेंसिंग को गई है, लेकिन इसे भी वो पार कर लेते हैं और रिहायशी इलाकों में आ जाते हैं। ये घंटनाएं यहां के लिए आम बात हो गई हैं, लेकिन इस हमले ने सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया है।

Latest posts:-