शामभवी शाही, नई दिल्ली: Section 144: अधिकारियों ने आने वाले त्योहारों और हाई-स्कूल परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्धनगर में क्रिमिनल प्रोसीजर कोड (सीआरपीसी) की धारा 144 (Section 144) लागू कर दी है। इस धारा के तहत किसी भी सार्वजनिक स्थान पर 4 या 4 से अधिक लोगों के इकट्ठे होने पर सख्त रोक है। इस महीने मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों में रमजान, रामनवमी और अंबेडकर जयंती शामिल हैं। धारा 144 – जो चार या अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर रोक लगाती है – 1 से लागू हो गई है और यह 30 अप्रैल तक लागू रहेगी।

ये भी पढ़ें: Delhi Tourism: इन जगहों पर घूमकर, कम बजट में उठाए विदेश का लुफ्त…

आपको बता दें कि इसी बीच सामान्य विधान परिषद चुनाव की तारीखों की भी अप्रैल महीने में ही घोषणा की जाने वाली है। नोएडा के गौतमबुद्धनगर (Gautam Buddh Nagar) जिले में धारा 144 लागू करने का निर्णय, जिसे 3 उपखंडों (Subdivisions) में विभाजित किया गया है – नोएडा सदर (Noida Sadar), दादरी (Dadri) और जेवर (Jewar) – भी राज्य में कोविड -19 संक्रमण के घटते मामलों के बीच आता है, जिसका पालन न करने और सावधानी नहीं बरतने पर भुगतना पड़ सकता है।

एक दिन पहले, उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में कोविड -19 बीमारी के 55 मामले दर्ज किए गए थे, पिछले दिन की तुलना में संक्रमण में मामूली वृद्धि हुई थी, जब 34 नए मामले दर्ज किए गए थे।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, 60 जिलों कोरोना वायरस संक्रमण के एक भी मामले दर्ज नहीं हुए हैं। राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या 365 थी। वहीं वायरल बीमारी से ठीक होने वाले 44 रोगियों के साथ, स्वस्थ होने वालों की कुल संख्या 20,46,868 तक पहुंच गई है।

ये भी पढ़ें: Night Skincare: रातों रात चमकदार त्वचा देगा ये फेस पैक…

इस बीच, उत्तर प्रदेश भारत का वह पहला राज्य बन चुका है जहां 30 करोड़ कोविड -19 वैक्सीन खुराक लोगों को दी जा चुकी है। इसी के साथ उत्तर प्रदेश ने भारत में रिकॉर्ड बना लिया है। आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi)के नेतृत्व में कोविड वैक्सीन की 30 करोड़ खुराक का सुरक्षा कवच प्रदान करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने इस मामले से संबंधित एक ट्वीट करते हुए इस बात का श्रेय सभी स्वास्थ्य कर्मचारियों और राज्य के लोगों को दिया है। उन्होंने अपनी ट्वीट में लिखा है कि, “यह उपलब्धि राज्य के प्रतिबद्ध स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और राज्य के जागरूक लोगों को समर्पित है।

ये भी पढ़ें: Navratri 2022: नवरात्र में यह चीज़ें करने से बचें वरना हो सकती हैं मां दुर्गा नाराज़