हाल ही में मशहूर पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला के मर्डर ने सबको हिला कर रख दिया है. गायक की अचानक से मौत की वजह से परिवार वालों के साथ साथ ही फैन्स भी गहरे सदमे में हैं. सिद्धू मूसेवाला पर कुल 30 राउंड फायरिंग हुई थी. इस के दौरान उनके साथ कार में दो और लोग मौजूद थे बताया जा रहा है कि जहाँ सिद्धू की मौके पर मौत हो गयी थी वहीँ बाकी दो लोग बुरी तरीके से ज़ख़्मी हुए थे और उन्हें अस्पताल में फ़ौरन भर्ती कराया गया था.


इसी मामले पर मशहूर गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने बात करते हुए कहा है कि वो ये बात स्वीकार करते हैं कि उनके गैंग के सदस्य ने पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या की है। सूत्रों की मानें तो, लॉरेंस बिश्नोई ने दिल्ली पुलिस को बताया है कि , ”हां, मेरे गैंग के सदस्य ने सिद्धू मूसेवाला की हत्या की है.”

ये भी पढ़ें: Sidhu Moosewala Death News: सिद्धू मूसेवाला को गोली मार कर हत्या, मौके पर मौत

बिश्नोई ने बताया है कि विक्की मिद्दुखेड़ा उसका बड़ा भाई था और उसके गैंग के ने विक्की की मौत का बदला लेने के लिए सिद्धू की जान ले ली। जहाँ बिश्नोई ने ये बात कबूल की है कि उसकी गैंग ही पंजाबी गायक मूसेवाला की हत्या में शामिल थी, वहीँ उसने इस घटना से खुद को बिलकुल अलग कर लिया है। बिश्नोई ने इस मामले पर ये तक कहा है कि उसे तो सिद्धू मूसेवाला की मौत की खबर भी तब पता चली जब उसने तिहाड़ जेल में टीवी पर ये न्यूज़ देखी थी. बिश्नोई ने कहा, “यह मेरा काम नहीं है, मैं जेल में था और अपने फोन का इस्तेमाल भी नहीं कर रहा था।”

लॉरेंस बिश्नोई के गिरोह का नाम सिद्धू मूसेवाला की हत्या के सिलसिले में सामने आया था। पंजाबी गायक की 29 मई रविवार को मनसा जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सिद्धू मूसेवाला की हत्या के एक दिन बाद, लॉरेंस बिश्नोई, जो वर्तमान में दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है, ने अपने वकील के माध्यम से सुरक्षा बढ़ाने की मांग की।

ये भी पढ़ें: Chanakya Neeti: जीवनसाथी से भूलकर भी मत करना शादी, पड़ सकता है पछताना

दिल्ली के पटियाला कोर्ट में दायर याचिका में कहा गया है, “आरोपी एक छात्र नेता है और राजनीति में रहने के कारण उसके खिलाफ पंजाब और चंडीगढ़ राज्यों में कई झूठे मामले दर्ज किए गए हैं और आरोपी को पंजाब पुलिस द्वारा फर्जी मुठभेड़ की आशंका है।”

आपको बता दें कि 1 जून 2022 को सिडु मूसेवाला का अंतिम संस्कार किया गया जिस में पंजाबी रस्मों रिवाज़ों के तहत उन्हें दूल्हे के कपडे पहनाये गए थे. सिद्धू के इस अंतिम सफर में हज़ारों लोग शामिल हुए थे जो आखरी बार उन्हें जी भर कर देखने आये थे.