Vat Savitri 2022: भारत में किसी भी त्योहार को बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है। इसी कड़ी में सुहागिन महिलाओं का एक बहुत ही प्यारा सा त्योहार आने वाला है। इस दिन हर सौभयावती महिलाएं अपने पति के दीर्घाआयु के लिए व्रत रखती हैं l ये त्योहार हिंदू धर्म का बहुत ही खास त्योहार मना जाता है।आपको बता दें की ये त्योहार हर साल ज्येष्ठ माह की अमावस्या को मनाया जाता है। भारत मे वट सावित्री (Vat Savitri) का व्रत बहुत सारी महिलाएं रखती है।

ये त्योहार पौराणिक काल की कथा के सत्यवान और सावित्री को समर्पित है। जिस प्रकार सावित्री ने अपने पति को यमराज के पास से वापस बुला लिया था। इस साल वट सावित्री का व्रत पर कई शुभ संयोग भी बन रहे हैं। इस साल वट सावित्री व्रत 30 मई 2022 को रखा जाने वाला है। आपको बता दें की वट सावित्री व्रत की पूजा हर सुहागिनें अपने पति की लंबी आयु ,सुख-समृद्धि, की कामना के लिए रखती हैं। इस व्रत मे वट वृक्ष की पूजा अर्चना की जाती है।

ये भी पढ़ें: Akshay Tritiya 2022: जानें क्या है अक्षय तृतीया मनाने के पीछे का कारण

महिलाए कब और क्यों करती हैं ये पूजन:

ये व्रत महिलाए बड़े ही धूम धाम और विधि विधान से बरगद के वृक्ष यानी वटवृक्ष की पूजा ,अर्चना करती हैं। ऐसा कहा जाता है की जिस प्रकार बरगद वृक्ष की आयु काफी लंबी होगी है। ठीक उसी के समान ही अपने पति के आयु भी हो जाए। इस साल 30 मई को वट सावित्री व्रत मनाया जाएगा। साथ ही साथ आपको बता से की इस 30 मई को ज्येष्ठ मास की अमावस्या भी है। इस दिन सोमवार का दिन पड़ने की वजह से महिलाएं इस बार सोमवती अमावस्या का व्रत रखेंगी।

वट सावित्री व्रत का दिनांक 2022:

वट सावित्री का व्रत इस साल 30 मई को पड़ रहा है। आपको बता दें की ये व्रत सोमवार को रखा जाएगा। साथ ही साथ हम आपको ये भी बता दें की इस साल अमावस्या तिथि 29 मई को दोपहर को 02 बजकर 55 मिनट से प्रारंभ होकर उसके अगले दिन 30 मई को शाम 05 बजकर 1 मिनट तक रहेगी।

ये भी पढ़ें: Chanakya Neeti: भूलकर भी ना करें इन खास लोगों पर भरोसा, वरना हो जायेंगे बर्बाद

पूजा विधि:

इस दिन सुहागिन महिलाएं सारा सामान एक टोकरी में रखकर बरगद वृक्ष के नीचे जाती हैं। वहां पर रोली सिंदूर से बरगद के वृक्ष पर तिलक लगाती हैं। उसके पश्चात वट वृक्ष महाराज को कच्चा सूत बांधती है। साथ ही साथ 108 बार वट वृक्ष की परिक्रमा करती है। ये जितनी बार परिक्रमा करती है उतनी बार मूंगफली के एक दाने कोसमर्पित करती है।ये महिलाए जल अर्पित करके बरगद वृक्ष के जड़ों को सींचते हैं। साथ में महिलाए वट वृक्ष से अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं।