90 का दशक भारत के लिए कुछ लिहाज से स्वर्णिम भी रहा है, ये वो समय था जब भारतीय कार निर्माता कंपनियां अपने चरम पा थीं। लेकिन उसके कुछ समय बाद जब भारतीय मार्केट में विदेशी कार कंपनियों की एंट्री हुई, तो लोगों को यही पसंद भी आ गईं। ये कार मैन्युफैक्चरर्स बेहद ही सस्ती कीमतों में अपनी गाडियां लॉन्च कर रहे थे और लोग भी इन्हे धड़ाधड़ खरीद रहे थे। जब ये सिलसिला काफी दिनों तक बंद नहीं हुआ, तो कई लोगों को अपना धंधा बंद करना पड़ा, क्योंकि वो कम कीमत में कार बनाने में सक्षम नहीं थें या फिर उनके पास वो टेक्नोलॉजी नहीं थी जिसकी मदद विदेशी कंपनियां ले रहीं थीं। लेकिन आ चर्चा इस बात पर नही होगी की उस समय और क्या हुआ, आज हम आपको बताएंगे की कैसे आज समय वे फिर करवट ले ली है।

अभी फिलहाल देश में सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी Maruti suzuki है, मारुति के पास हर प्रकार और हर रेंज की गाड़ी उपलब्ध है। आपकी जरूरतों को देखते हुए मारुति ने एक से बढ़कर एक गाडियां मार्केट में उतारी हैं।

अपने एक बात तो सुनी होगी, की समय करवट जरूर लेता है और अभी ऐसा ही कुछ हो रहा है। आज से कुछ साल पहले तक जो भारतीय कार निर्माता कंपनियां मार्केट से लगभग गायब ही हो गईं थीं, ये फिर से वापसी कर रहीं हैं, जिससे ये माना जा रहा है की अब मारुति की बादशाहत खत्म होने वाली है। अगर पिछले कुछ महीनों के आंकड़े उठाकर देख लें तो ये साफ पता चलता है कि, tata और mahindra जैसी स्वेदशी कंपनियों ने शानदार प्रदर्शन किया है और आने वाले दिनों में ये और तेजी से बढ़ेगा। इसका सबसे बड़ा लाभ उन कस्टमर्स को होगा, जो दमदार फीचर्स के साथ स्वदेशी की मांग करते हैं। हाल के दिनों में टाटा की Tata Punch हो या Mahindra Thar, इन गाड़ियों ने लोगों की सोच को पूरी तरह से बदलकर रख दिया है। अब लोगों को ये विश्वास हो रहा है की, भारतीय कार निर्माता भी विदेशी निर्माताओं को टक्कर दे सकते हैं।

ये भी पढ़ें: Ind vs Pak: 200 करोड़ लोग लेंगे हिस्सा! 28 अगस्त को दुबई में खेला जाए……

अगर आप भी कभी गाड़ी खरीदने की सोचें, तो एक बार अपने देश में बनीं गाड़ियों को जरूर देखें, हमे उम्मीद है की ये आपको पसंद आने वालीं हैं। पिछले दिनों जो आंकड़े निकलकर आए हैं उनमें ये साफ तौर पर देखा जा सकता है की, कैसे Tata और Mahindra भारतीय कार बाजार में अपनी रॉयल एंट्री कर चुके हैं। अब बस इन्हे इसी तरह से बेमिसाल फीचर्स और दमदार लुक वाली गाड़ियां लॉन्च करनी होंगी, ताकि सभी लोग आत्मनिर्भर भारत में अपना योगदान दे सकें और अपने देश को आत्मनिर्भर बनाएं।