खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


आज भारत में टेलीकॉम कंपनियों का क्या हाल है, ये सभी को पता है। अभी फ़िलहाल हमारे देश में दो ही ऐसे

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


टेलीकॉम ऑपरेटर हैं, जिन्होंने खुद को स्थापित कर लिया है। पहला नाम है Airtel और दूसरा Jio, इन दोनों के

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


साथ एक नाम वोडाफोन आईडिया (vi) का भी है। vi अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही है, पूरी तरह से कर्ज

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


में डूबी ये ब्रिटिश कंपनी अभी कुछ भी करने की हालत में नहीं है और इसके पास बस गिनती भर के ग्राहक बचे हुए हैं।

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


लेकिन इससे से जुड़ी एक खबर निकलकर आ रही है, जिसमें ये बताया जा रहा है की भारत सरकार vi की कुछ

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने की तैयारी कर रही है। इस डील के लिए एक शर्त रखी गई है और वो ये की

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


"जबतक vi के शेयर्स की कीमत 10 रूपए पर स्थिर नहीं हो जाते, तबतक ये अधिग्रहण नहीं होगा" जिसने भी ये सुना,

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


किसी को भी विश्वास नहीं हुआ। सबका बस एक सवाल था की आखिर घाटे में डूबी कंपनी में सरकार क्यों

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


निवेश कर रही है। कहीं-कहीं तो ये भी अफवाह उड़ रही है की, अब बीएसएनएल के अलावा वोडाफोन-आईडिया

खबरें पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें


भी एक सरकारी कंपनी बन जाएगी, जिससे की नेटवर्क सर्विस सस्ती हो सकती है, अब देखना होगा की क्या होता है।