नई दिल्ली: Death At US Border: हम सब के सामने ऐसे बहुत से मामले सामने आए हैं जिसमें भारत से लोग अमेरिका (America) जाने के लिए गैर कानूनी तरीकों का इस्तेमाल करते हैं। कई लोग तो अमेरिका के पहुंच भी जाते हैं लेकिन वहां पहुंचने के बाद पकड़े जाने पर वह अपने साथ साथ देश का भी अपमान करवाते हैं और फिर अमरीकी सरकार (US Government) उन्हें वापस से भारत डिपोर्ट (Deport) कर देती है। इतने निरादर और अपमान के बाद भी भारत में अब भी ऐसे कई लोग हैं जो विदेश जाने के लिए गैर कानूनी पैंतरे इस्तेमाल करते हैं।

Dingucha Village

यह भी पढ़ें: Ukraine Crisis: भारतीय एंबेसी ने दी नागरिकों को स्वदेश लौट जाने की सलाह

ऐसा ही एक परिवार था गांधीनगर (Gandhinagar) से 12 किलोमीटर दूर स्थित दिंगुचा गांव (Dingucha Village) का पटेल परिवार। पटेल परिवार भी उनलोगों में से ही एक था जो अमेरिका जाने के लिए गैरकानूनी तरीके इस्तेमाल करते हैं। यही गैरकानूनी पैंतरा पटेल परिवार के मौत का कारण बन गया और अपनी इस गलती के कारण पटेल परिवार को अपनी जान से हाथ गंवाना पड़ा।

People Mourning In Dingucha Village

यह भी पढ़ें: Afterlife: जानें क्या होता है इंसान के साथ मरने के बाद…

Patel Family

दरअसल पटेल परिवार को एक एजेंट ने यह वादा किया था कि वह उन्हें सही सलामत अमेरिका पहुंचा देगा इस वादे को मानकर पटेल परिवार ने एजेंट को 65 लाख रुपए दे दिए थे। पटेल परिवार के शव (Dead Body) को बॉर्डर से बरामद किया है। बताया जा रहा है की -35 डिग्री सेल्सियस के तापमान के कारण पटेल परिवार की बॉर्डर पर ठंड के कारण मृत्यु हो गई। इस परिवार में 35 वर्षीय जगदीश पटेल (Jagdish Patel), 33 वर्षीय वैशाली पटेल (Vaishali Patel), उनकी बेटी 12 वर्षीय विहांगी पटेल (Vihangi Patel) और उनका बेटा 3 वर्षीय धार्मिक पटेल (Dharmik Patel) शामिल थे।

यह भी पढ़ें: Bollywood: इन नए तीन चेहरों को लॉन्च करने जा रहे हैं करण जौहर